Wednesday, September 13, 2017

प्रियंका परिवार फोटो






कैप्शन जोड़ें












प्रियंका न्यूज डॉट काम


भाजपा का नया इतिहास

भाजपा के नये भारत का इतिहास !

 नई दिल्ली (राव) | भारतीय जनता पार्टी ने एक सामान्य ज्ञान 2017 नाम से एक बुकलेट छपवाई है, जिसमें पहले प्रधानमंत्री के तौर पर पंडित जवाहरलाल नेहरू का कोई जिक्र नहीं है। किताब में प्रधानमंत्री पद से त्याग देने वाले पीएम के रूप में मोरारजी देसाई का नाम है। 70 पेजों की इस किताब के 34वें पेज पर शीर्षक है-भारत में पहले।
इसमें देश के पहले राष्ट्रपति, गवर्नर जनरल, उप राष्ट्रपति, लोकसभा स्पीकर और उपप्रधानमंत्री के बारे में बताया गया है। लेकिन इसमें न तो पंडित जवाहर लाल नेहरू का बतौर प्रथम प्रधानमंत्री जिक्र है और न ही महात्मा गांधी को राष्ट्रपिता बताया गया है। इन बुकलेट्स को कई सरकारी और गैर सरकारी स्कूलों के हजारों बच्चों को बांटा गया है।
महाराष्ट्र में कक्षा 9 की भूगोल की पुस्तक में देश का नक्शा गलत छाप कर बच्चों को बांट दिया गया यही गलती पिछले साल भी महाराष्ट्र शिक्षा बोर्ड ने की थी | इसी तरह उत्तर प्रदेश के शिक्षा विभाग ने कक्षा एक में चलने वाली सरकारी पुस्तक ‘कलरव’ में अंग्रेजी की 31 वर्णमाला लिखीं हैं जबकि 26 होनी चाहिए | प्रकाशक यहीं नहीं रुके कक्षा 3 को पढ़ाया जाने वाला विषय कक्षा 1 की किताब में छाप कर बच्चों में वितित कर दिया गया है | यह है स्कूल चलो अभियान का सच और भाजपा की इतिहास बदलकर नई पीढ़ी को गुमराह करने की साजिश ! यही नहीं बाबा साहेब अम्बेडकर के नाम से स्कूलों व विश्वविद्यालयों में दलित विद्यार्थियों को ही प्रवेश नही मिल रहा है ?


प्रियंका हिंदी समाचार

नई आज़ादी के हल्ले में खबरपालिका  
सच लिखो तो सियासी मुहल्ले के जांबाज देशद्रोही कहकर हाथ काट ले रहे हैं | झूठ लिखो तो पाठक दारूबाज दलाल मान लेता है | चाटुकारिता करो तो किराये के पंडालों में भोजन के लिए बुलाकर सियासी गुंडे हलक में हाथ डालकर अपमानित कर रहे हैं |   इससे भी जी नहीं भरता तो गौरी लंकेश,ब्रजनन्दन,जैसों का राम नाम सत्य करते हुए केरल-बंगाल हिंसा के साथ इमरजेंसी का फुक्का फाड़ तर्पण कर रहे हैं | तिस पर तुर्रा ये कि सियासी आरामगाहों में ठेके या संविदा पर काम पाए संस्कारी लफ्फाज राष्ट्रवाद की परिभाषा बता रहे हैं | गो कि आदमी की पैरोकारी करने की जगह सत्ताधारियों के जयकारे लगाने की लतखोर ‘पत्तलकारिता’ जमात में शामिल होना होगा ? कौन देगा इस सवाल का जबाब गांधी या गोडसे के वारिस ? या फिर लोहिया या  मार्क्स का झंडा उठाये जमात ? या जिन्ना की बिगडैल औलादों के खलीफा ?
गौरी की हत्या पर चीखते-चिघाड़ते लेख/ज्ञान , समझदार सलाहें और आंसू बहाती संवेदनाएं उनकी चिता की राख में चमकती चिंगारियों से जुबानी शोले भडकाने का अपराध दर अपराध करके क्या साबित करना चाहती हैं ? हिन्दुओं के संस्कार तो मिट्टी को प्रणाम करने के हैं , फिर ये कौन से और किस ग्रह के हिन्दू हैं जो गौरी की अस्थियों तक को गाली दे रहे है ? यह किसी पत्रकार की पहली हत्या नहीं है और गाली के भजन भी पहली बार नहीं सुनाये जा रहे हैं , पिछली उत्तर प्रदेश सरकार के समय शाहजहांपुर के पत्रकार जोगेंद्र सिंह की जिन्दा जला कर हत्या के दौरान भी इसी तरह हल्ला-गुल्ला मचा था | आगे भी जब ऐसा कुछ घटेगा तो क्या इसी तरह छाती कूटते हुए मातम मनाएंगे ? चिंता तो संयुक्त राष्ट्र के विशेष रिपोर्टर डेविड केय भी जता चुके हैं और दुनिया भर की जेलों में बंद पत्रकारों के रिहा किये जाने की मांग भी कर चुके हैं | महज चिंता,निंदा,संवेदना या विलाप करने से कुछ नहीं होगा | हमे समझना होगा कि पत्रकारों के बरखिलाफ राजनीतिक षडयंत्र की जड़ें कहाँ और कितनी गहरी हैं |
राजनीति के कचरा घरों से लेकर राजनीति के मुहल्ला दर मुहल्ला बड़बोले नेताओं की जमात पत्रकारिता को मिशन बताते नहीं थकती और पत्रकारों के आदर्श गणेश शंकर विद्यार्थी का नाम लेना नहीं भूलती , लेकिन यह नहीं बताती कि किस मिशन पर पत्रकारों को काम करना चाहिए ? क्या वे खुद जिस मिशन पर काम कर रहे होते हैं उस पर पत्रकारों को काम करना चाहिए या फिर खबरपालिका के जिम्मेदार वकील होकर आदमी की पैरोकारी के मिशन पर ? आदमी की पैरोकारी करते हुए गांधीजी ने अपनी छाती पर गोली लगने के बाद हाय ..मार डाला नहीं ‘ हे ...राम’ कहा था | यह वाक्य राष्ट्र के लिए था , मानव के लिए था और उसकी पैरोकारी के लिए था | मोहनदास करमचन्द गांधी स्वतन्त्रता आन्दोलन के नायक ही नहीं थे , पत्रकार भी थे और आजाद भारत में 30 जनवरी,1948 को पहले पत्रकार की हत्या हुई थी | इसी के बाद पत्रकारिता ‘मिशन’ से ‘मोशन’ हो गई और शुभ-लाभ के बहीखाते में दर्ज की जाने लगी | 31 अक्टूबर,1984 को इंदिरा गांधी की हत्या के बाद पत्रकारिता ‘मोशन’ से ‘मंचन’ में तब्दील हो गई | मंच पर अभिनय होता है जिसमे झूठ के सारे नातेदारों की भागीदारी होती है और मंच के पीछे साजिशों की पटकथा लिखी जाती है | क्या यही ‘न्यू इंडिया’ और नई आजादी’ के मंच पर नहीं हो रहा है ?
 इसी सवाल की कोख से हिंसक कबीले पैदा होने लगते हैं और रक्तरंजित पथ का निर्माण होने लगता है | इन्हीं साजिशी कबीलों की असलियत से नई पीढी को वाकिफ कराना है और इसके लिए पत्रकारों को अपने पुरखों की कलम से जने अक्षरों से हौसला हासिल करना होगा | यही हौसला ‘मिशन’ बनाना होगा जो  आन्दोलन साबित हो |  सवाल बहुत हैं ,बहसें बहुत हैं लेकिन अक्षरों की अपनी सीमा है , शालीनता है और ललकार भी |
प्राण नाथ डांट ल्यो मुला हम न मनिबे
लखनऊ | सब्जी जल गई...चावल जल गया....हाय दइया | लड़का घंटा भर से नंगा घूम रहा है कोई फ़िक्र है | टिफिन लगा या फोन पर ही लगी रहोगी | ऐसी आवाजें गांव-कस्बे से लेकर शहरी घरों से सुनाई देना आम हो गया है | दरअसल गृहणियां हर समय मोबाइल फोन पर लगी रहती हैं इसलिए ऐसी आवाजों की बुलंदियां बढ़ रही हैं | दिन में कई बार डांट खाने के बाद भी फोन की लत है की नहीं छूटती |  ऐसा नहीं है कि अकेले महिलाएं ही सोशल मीडिया पर सक्रिय हैं बल्कि बच्चे,बूढ़े,युवा सभी के हाथों में फोन है और फेसबुक,वाट्सअप,वीडियो,गाने,जोक्स के साथ बातों का सिलसिला गजब है | लोगों का अपने पार्टनर तक से जुड़ाव घट रहा है , तलाक तक की नौबत आ रही है | अब अधिकतर लोगों की चाय सोशल मीडिया के दोस्तों के साथ होती है और सवेरा मोबाइल के एलार्म से होता है | मोबाइल की लत ने दुर्घटनाओं के साथ अपराधों को भी जन्म दिया है | आगरा से खबर है की 4जी फोन के लिए पति ने पत्नी को पीट-पीट कर मार डाला | लखनऊ में पति ने पत्नी को फोन पर बात करने से रोका तो पत्नी ने पति पर चाकू से हमला कर दिया | ‘डिजिटल इंडिया’ के फायदों के साथ कई  खतरे व अपराध भी बढ़ रहे हैं | चिकित्सकों के अनुसार लोग ‘स्मार्टफोन सेपरेशन एन्ग्जाइटी’ के शिकार हो रहे हैं | आंकड़े बताते हैं कि 79 फीसदी लोगों के हाथों में मोबाइल फोन हैं |
अंडे पर डंडा !
नई दिल्ली  | मांस बाजार की तबाही के बाद सरकार की नजर एक लाख करोड़ के मुर्गी पालन उद्योग पर टेढ़ी होती दिखाई दे रही है | विधि आयोग ने पिंजरे ( बैटरी केज ) में बंद और खुली मुर्गियों के अण्डों के बीच अंतर की सिफारिश की है | आयोग ने प्राणियों ( अंडे देने वाली मुर्गी ) पर अत्याचार रोकने के लिए नये नियमों की रूपरेखा तैयार की है | इस नियम में जानवरों पर अत्याचार कम करने के लिए पिंजरे में बंद और खुले में रहने वाली मुर्गियों के अंडों और गोश्त ( ब्रायलर ) में अंतर करना जरूरी है | आयोग की सिफारिश है कि मुर्गियों को खुले में रख कर उनसे अंडे हासिल करने को बढ़ावा दिया जाना चाहिए इसके लिए राज्य राज्य पशुपालन विभाग मान्यता दे | आयोग का तर्क है कि इससे उपभोक्ताओं को स्वस्थ व अत्याचार रहित प्रणाली में तैयार उत्पाद मिल सकेगा | अंडे देने वाली मुर्गियों और गोश्त ( ब्रायलर ) के लिए भी मानक तय किये गये हैं | इस खबर से मुर्गी पालन से लेकर अंडे और मुर्ग का गोश्त बेचने वाले कारोबारियों में खलबली मच गई है क्योंकि नियमों का पालन नहीं करने वालों के खिलाफ पशु अत्याचार निरोधक क़ानून के तहत कार्रवाई करने की भी सिफारिश की गई है | इतना ही नहीं मुर्गीपालन केन्द्रों की नियमित निगरानी व जांच के साथ नियमों का पालन न करने पर मुर्गियां तक जब्त करने का भी प्रावधान किया गया है |
बताते चलें कि अवैध बूचडखानों के बाद केंद्र सरकार ने पशु बाजार नियंत्रित करने के लिए नये नियम बनाये थे जिसके तहत पशुओं/मुर्गियों की गर्दन पंजे,पंख बाँधने , उल्टा पकड़ने पर पाबंदी लगा दी थी | आयोग का कहना है कि छोटे पिंजरों में मुर्गियां पंख तक नहीं फैला सकतीं , उन्हें बहुत परेशानी होती है , इसके साथ ही मुर्गियों की संख्या उनके वजन के हिसाब से तय होनी चाहिए | वहीं कारोबारियों का कहना है ये सिफारिशें न केवल हास्यास्पद हैं बल्कि इससे उत्पादन घटने के साथ बीमारियों के बढ़ने का खतरा भी बढ़ेगा क्योंकि खुले में मुर्गियां बीट और खाद के संपर्क में रहेंगी | वहीं पोल्ट्री उद्योग से जुड़े दिग्गजों का कहना है कि यदि आयोग की सिफारिशें मानी गईं तो इसके लिए अरबों डॉलर के निवेश की जरूरत होगी |

गौरतलब है कि पिछले महीनों में अंडों और मुर्ग के गोश्त की कीमतों में 30-40 फीसदी का इजाफा हुआ है | जानकारों का कहना है कि इसी वजह से सरकार की नजरें इस और उठ रहीं हैं | वहीं उद्योग से जुड़े लोगों का कहना है कि बढ़ी कीमतों के बाद भी उत्पादन लागत पर संकट मंडरा रहा है | सरकारी आंकड़े बताते हैं कि अकेले अंडों का उत्पादन 29.9 अरब है | यहाँ एक बात और गौर करने लायक है कि देश में मौजूदा सरकार और उसका मात संगठन शाकाहार का समर्थक है |  

Friday, August 18, 2017

राम प्रकाश वरमा , संपादक , ‘प्रियंका’,हिंदी समाचार पत्र ,लखनऊ |
1 लखनऊ विस्वविद्यालय से परास्नातक , हाईस्कूल केकेसी , इंटर क्रिश्चियन कालेज लखनऊ से |( बाकी मेरा बचपन और काफी कुछ मेरे लेख में है )
2/3  १९६९ में गुरुवर प. दुलारे लाल भार्गव , संपादक , माधुरी , सुधा पत्रिका , आधुनिक हिंदी साहित्य के निर्माताओं में एक स्तम्भ की कृपा से प. उमा शंकर मिश्र वरिष्ठ कांग्रेस नेता व एमडी एसोशिएटेड जर्नल्स लि. ने हिंदी दैनिक ‘नवजीवन ‘ में बतौर ट्रेनी शुरुआत कराई , इन्ही दोनों की कृपा से तीन साल नवजीवन में रहा | हिन्दी पत्रकारिता का ककहरा नवजीवन और आचार्य भार्गव जी से सीखा इन्ही की कृपा से हिंदी के मूर्धन्य रचनाकारों से आशीर्वाद मिला | प. कैलाश नाथ कॉल ( इंदिरा गांधी के सगे मामा ) का काफी दिनों तक टाइप का काम भी किया जिससे भाषा में सुधार हुआ | १९७६ में गुरुवर के स्वर्गवास के बाद मुम्बई की चार-पांच साल प्रवास में आर.के.करंजिया , डा.राम मनोहर त्रिपाठी , नन्द किशोर नौटियाल , डा. राही मासूम रजा ,ख्वाजा अहमद अब्बास ,कमलेश्वर जैसे दिग्गजों से मुलाकात और नवभारत टाइम्स ,सांध्य अमन ,में नौकरी व ब्लिट्ज में लेखन के दौरान कई ख्यातिनाम लोगों के इंटरव्यू लेने के मौके ने कलम को माँ मानने,समझने का गौरव दिया और लेखन में धार |
4 हिंदी पत्रकारिता बदलाव के दौर से गुजर रही है , मिशन की जगह मोशन में है सो बनियों ने भी ,नेताओ ने भी इसका दुरूपयोग करना शुरू कर दिया दूसरी ओर उसे समृद्ध भी किया लिहाजा पत्रकारिता शुभ-लाभ के बहीखाते में दर्ज होने लगी है |
5 दरअसल हम नारद से लेकर पराडकर जी तक पर ही अटके है जबकि आज हाईटेक टेक्नालाजी के दौर में जहाँ जरूरतें बढ़ी हैं वहीं पिछले २० सालों से बेईमानी के पैरों में बंधे झूठ के घुँघरू बेहद तेज आवाज में बज रहे हैं , ऐसे में भ्रष्टाचार के जंग लगे औजार से ठोक-पीट कर तैयार किये जाने वाले पत्रकारों से स्तर की बात बेमानी है | जहाँ संविधान को धता बता कर , कानून को धता बता कर , भोले-भले देशवासियों को जात-पात के खाने बाँट कर अपराधियों का शासन में सीधा दखल हो जाए वहां अकेले पत्रकारिता को दोष देना सही नहीं होगा |
6 जिम्मेदार तो तो हम ही हैं , प्राथमिक शिक्षा में ही बेईमानी है और सामाजिक , राजनैतिक वातावरण भी जिम्मेदार है |
7 बेशक है , इसके लिए किसी दूसरे ग्रह से कोई नहीं आएगा , हमें अपने प्रति ईमानदार होने की जरूरत है बस ये शुरुआत करने भर की देर है , कुछ मानक तय करने होंगे , नेता,कार्पोरेट्स को उनकी ही भाषा में बताने की ताकत अपने में पैदा करनी होगी |
8 वेब तो अब जवानी की दहलीज पर है और यह हर किसी की प्रेमिका साबित हो रहा है , भविष्य में हर हाथ में जो उपकरण होंगे वे तरंगो से ही सब बता देंगे | वेब मीडिया पर निगरानी की जरूरत है वरना यह अराजक भी हो सकता है लेकिन भविष्य उज्ज्वल है |
9 उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री वीर बहादुर सिंह ने गोरखपुर में अपने गांव हरनही के पास भरोहियां में एक मंदिर पर ८ दिनों तक एक कंपनी पीएसी लगा कर यज्ञ कराया था किसी अख़बार को इसे कवर करने की इजाजत नहीं थी | देश के सभी अख़बारों का जमावड़ा लगा लेकिन कोई भी अंदर नहीं जा सका , ‘माया’ पत्रिका के निशीथ जोशी व राजेन्द्र कुमार ने प्रयास किया लेकिन उनको वीर बहादुर के भाई गुलाब सिंह व अन्य लोगों ने बेतरह पीटा और ये प्रकरण विधानसभा में भी उस समय उठा था | मै गोरखपुर के पत्रकार सुशील कुमार वर्मा व मेरे मित्र फतेह बहादुर सिंह ( फोटोग्राफर ) के साथ अंदर गया और हरनही गांव के घर का फोटो , यज्ञ स्थल व यज्ञ कराने वाले बाबा , पुजारी का फोटो और प्रसाद लेकर आया | उस समय देश भर में अकेले ‘प्रियंका ‘ ने पहले पेज पर मय फोटो के ‘ वीर बहादुर का यज्ञ  राजीव गांधी की कापालिक क्रिया ?’ हेडिंग लगाकर छापा था बड़ी चर्चा हुई थी , इसके गवाह आज भी ‘माया’ के ब्यूरो प्रमुख रहे अजय कुमार , निशीथ जोशी हैं | इस रिपोर्टिंग ने जहां निडरता सिखाई वहीं देश की कई नामचीन हस्तियों के करीब जाकर बेहिचक इंटरब्यू करने की हिम्मत दी उनमे मुलायम सिंह , हरिशंकर तिवारी , का नाम प्रमुख है | वैसे इससे पहले हाजी मस्तान , वरद राजन मुदलियार जैसे तस्करों तो कांग्रेस नेता वसंत दादा पाटिल , अब्दुल रहमान अंतुले के साथ भी बातचीत का अवसर मिल चुका था | और आज की विधानसभा के अध्यक्ष प. हृदय नारायण दीक्षित भी हैं |